वैसे तो इस पूरी दुनिया में एक से बढकर एक इंसान हैं.जो खाने के मामले में किसी को भी पीछे छोड़ सकते हैं.लेकिन क्या आपने कभी ऐसा सुना हैं कि कोई बच्चा जिसकी उम्र महज 6 साल की हो और वो खाने के मामले में बड़े से बड़े शख्स को पीछे छोड़ दे.नहीं न तो आज हम आपको बताते हैं.ऐसे ही एक बच्चें के बारे में जिसकी खुराक जानकर आपके होश उड़ जाएंगे.बता दें,छह साल का बच्चा और खुराक 25 चपाती रोज, यह पढ़कर चौंक गए ना आप.

आपको जानकर हैरानी होगी कि यह खुराक वास्तव में नहीं है, बल्कि एड्रीनो कार्टिकल ट्यूमर की वजह से है.इस बीमारी में बच्चे की भूख बढऩे के साथ ही वजन बढ़कर 23 किलो हो गया. ऐसा होता देख परिजनों को उसकी खुराक पर लगाम लगाना शुरू किया, लेकिन बात नहीं बनी.

इसके बाद झालावाड़ निवासी इस बच्चे के परिजनों ने इसको कोटा में डॉक्टरों को दिखाया. वहां इसे लीवर कैंसर बता जयपुर रैफर कर दिया। यहां जांचों में पता चला कि उसके किडनी पर बड़ी गांठ थी. जिसके कारण उसकी खुराक व जननांगों सहित चेहरे पर बड़े लोगों जैसा असर नजर आ रहा था.जेके लोन के पीडियाट्रिक सर्जन डॉ. प्रवीण माथुर ने बताया कि रेडियोलॉजी विभाग की डॉ. अनूप भंडारी ने उसकी जांच में दुर्लभ गांठ की पहचान की.

जांच में उसके लीवर कैंसर तो था, लेकिन यह सब होने की वजह गांठ निकली। जो एक करोड़ में से 3-4 बच्चों में बमुश्किल मिलती है. इसे एड्रीनो कार्टिकल ट्यूमर कहते हैं.अस्पताल के डॉक्टरों ने हाल ही सफल ऑपरेशन किया है. अब बच्चे की खुराक एक दो चपाती रोज रह गई है व रक्तचाप सामान्य है. ऑपरेशन टीम में डॉ. राम डागा, डॉ. राहुल गुप्ता, डॉ. नीलम डोगरा व डॉ. अनपू भंडारी शामिल थीं.

Close Menu