अगले महीने से आपके लिए टेलीविजन, फ्रिज और वॉशिंग मशीन समेत अन्य सामान खरीदना महंगा हो सकता है. कंज्यूमर ड्यूरेबल फर्म्स ने इसके संकेत दिए हैं. उनका कहना है कि कच्चे तेल और रुपये में जारी लगातार गिरावट का असर इन उत्पादों के दामों को बढ़ाने के तौर पर सामने आ सकते हैं.

कंज्यूमर  ड्यूरेबल्स फर्म व्हर्लपूल इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर सुनील डीसूजा ने कहा कि कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों और रुपये में गिरावट का प्रभाव तमाम चीजों पर पड़ता है. इसलिए यह आशंका जताई जा रही है कि उत्पादों के दाम आने वाले समय में बढ़ेंगे. हालांकि दाम कब बढ़ेंगे, इस पर उन्होंने स्पष्ट जवाब नहीं दिया. लेक‍िन उन्होंने इतना जरूर संकेत दिया कि दाम जून से बढ़ने शुरू हो सकते हैं.

डीसूजा ने यह भी कहा कि कच्चे माल के आयात की कीमत का कंपनी के खर्च पर काफी प्रभाव होता है. ऐसे में रुपये  में डॉलर के मुकाबले लगातार जारी गिरावट का असर कंपनी के उत्पादों पर भी पड़ेगा. इस वजह से दाम बढ़ने के लिए यह भी एक अहम फैक्टर होगा.

डीसूजा ने बताया कि मौजूदा वित्त वर्ष में कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की मांग के अच्छे रहने की संभावना है. उनके मुताबिक अच्छी जीडीपी, बेहतर मानसून और ग्रामीण विद्युतीकरण की तरफ उठाए गए कदमों की बदौलत मांग का आंकड़ा दहाई में पहुंच सकता है.

व्हर्लपूल इंडिया से पहले गोदरेज अप्‍लायंसेस ने भी जून से अपने उत्पादों का दाम बढ़ाने की संकेत दिए हैं. पिछले महीने 29 अप्रैल को कंपनी ने कहा था कि जून से उत्पाद के दाम बढ़ाना उसके लिए अब जरूरी हो गया है. क्योंकि कच्चे तेल की कीमतों में लगातार इजाफा होता जा रहा है. इसके अलावा रुपये में भी गिरावट जारी है.

Close Menu