एटीएम से पैसे निकालने और अन्य बैंक‍िंग सेवाएं महंगी होने की आशंका खत्म हो सकती है. बैंक की तरफ से आपको दी जाने वाली कई सेवाएं जीएसटी के दायरे से बाहर रह सकती हैं.

बैंक की तरफ से चेक बुक जारी किया जाना और एटीएम से पैसे निकालने जैसी कई सुविधाओं को जीएसटी से बाहर रखा जा सकता है. वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अध‍िकारी ने यह बात कही है.

बैंक की तरफ से ग्राहकों को दी जाने वाली मुफ्त सेवाओं पर जीएसटी लगना चाह‍िए या नहीं, इस पर तस्वीर साफ करने के लिए कहा गया है. इस संबंध में वित्तीय सेवा विभाग ने राजस्व विभाग से स्थिति साफ करने को कहा है.

एक वरिष्ठ अध‍िकारी ने बताया कि राजस्व विभाग वित्तीय सेवा विभाग से यह कह सकता है कि मुफ्त बैंकिंग सेवाओं पर जीएसटी नहीं लगेगा. दरअसल विभाग की तरफ से जीएसटी को लेकर यह सवाल उन नोटिस के बाद उठाया गया है, जो आयकर विभाग ने बैंकों को भेजे थे

इन नोटिस में बैंकों से कहा गया था कि वे अपनी तरफ से ग्राहकों को दी जाने वाली मुफ्त सेवाओं पर टैक्स दें. इसके बाद वित्तीय सेवा विभाग ने  राजस्व विभाग को इसको लेकर तस्वीर साफ करने को कहा था.

अगर विभाग ग्राहकों को बैंक की तरफ से मिलने वाली मुफ्त सेवाओं पर जीएसटी लगाने का फैसला लेता है, तो संभव है कि ग्राहक के लिए भी कई बैंक सेवाएं महंगी हो सकती हैं.

यही नहीं, कई मुफ्त सेवाओं के लिए पैसे भी देने पड़ सकते हैं. इससे आम आदमी के लिए एटीएम से पैसे निकालना महंगा हो सकता है. इसके अलावा अन्य मुफ्त सेवाओं के लिए पैसे देने पड़ सकते हैं.

Close Menu