बेंजामिन नेतन्याहू

बढ़ते तनाव के बीच इजरायल ने मंगलवार को चेतावनी दी कि अगर सीरिया अपनी धरती का इस्तेमाल ईरान को करने देना जारी रखता है तो वह सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद का ‘खात्मा’कर देगा. इजरायल ईरान को अपना सबसे खतरनाक शत्रु मानता है और उसने उसे परमाणु बम बनाने या सीरिया में स्थायी उपस्थिति दर्ज कराने से रोकने के लिए लगातार प्रतिबद्धता जताई है.

ऊर्जा मंत्री युवल स्टेनित्ज ने न्यूज पोर्टल वाईनेट को कहा, ‘अगर (सीरिया के राष्ट्रपति बशर) असद ईरान को सीरिया की धरती से काम करते रहने देते हैं तो इजरायल उनको खत्म कर देगा और उनका शासन समाप्त कर देगा.’

प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के करीबी सहयोगी स्टेनित्ज ने कहा, ‘अगर असद सीरिया को हमारे खिलाफ ईरान का अग्रिम मोर्चा बनने देते हैं... हमारे ऊपर सीरिया की धरती से हमला होने देते हैं तो उन्हें जानना चाहिए कि यह उनका खात्मा होगा’

उन्होंने कहा,‘यह अस्वीकार्य है कि असद अपने महल में बैठे रहें और अपनी सरकार चलाते रहें जबकि सीरिया को इजरायल के खिलाफ हमले का ठिकाना बनने दें’

सीरिया के टी4 एयरबेस पर हुए हवाई हमले के बाद से इसकी शुरुआत हुई. हमले में सात ईरानी सैन्य सलाहकारों और रिवाल्यूशनरी गार्ड्स के सदस्यों की मौत हो गई थी.

ईरान की मानें तो हमले के लिए इजरायल को जिम्मेदार ठहराया था, लेकिन इजरायल ने इस हमले की अभी तक ज़िम्मेदारी नहीं ली थी और ना ही इनकार किया.  इजरायल को लगता है की ईरान जल्द ही सीरिया की धरती से उस पर रॉकेट और मिसाइल से हमला करेगा.

वहीं दूसरी और तनाव पूर्ण स्तिथि के बीच इजराइली के प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री को मिल गई है ये खास ताकत अब बिना कैबिनेट की पूर्ण मंज़ूरी के वो युद्ध की घोषणा कर सकते हैं. इजराइली के संसद ने उस बिल को मंजूरी दे दी है. ये बिल ऐसे तनाव के समय मे पारित हुआ है जब इजराइली, सीरिया और ईरान के बीच इतनी तनातनी है.

Related Post

Close Menu