टेलीकॉम कंपनियां इस समय 4जी के बाद 5जी डेटा कनेक्टिविटी के लिए काम कर रही हैं। यूके बेस्ड टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन ने ऐलान किया है कि कंपनी ने पहली 5जी डेटा कनेक्टिविटी इटली में हासिल कर ली है। वोडाफोन ने 5G कनेक्टिविटी के ट्रायल के लिए चीनी इलेक्ट्रॉनिक कंपनी हुवावे के साथ साझेदारी की है। हुवावे के साथ मिलकर वोडाफोन ने MIMO तकनीक के लिए रेडियो बेस स्टेशन तैयार किया था।

अगर ये ट्रायल सक्सेस होते हैं, तो जल्द ही 5जी कनेक्शन सर्विस अवेलेबल हो जाएगी और इटली समेत सभी देश इस सर्विस का लाभ उठा सकेंगे। हालांकि वैज्ञानिकों का मानना है कि 5जी तकनीक 2020 में हमारे सामने आ सकती है। उस समय आज का कोई भी स्मार्टफोन उस तकनीक का उपयोग नहीं कर सकेगा। मोबाइल निर्माताओं के सामने 5जी सपोर्टेड मोबाइल बनाने की भी एक बड़ी चुनौती रहेगी।

इस तकनीक से आपकी डेटा स्पीड 100 गीगाबाइट्स प्रति सैकेण्ड तक पहुंच जाएगी अर्थात् सौ फिल्में एक साथ एक सैकेण्ड में डाउनलोड हो सकेगी। 5जी तकनीक में न्यू रेडियो एक्सेस (एनएक्स), नई पीढ़ी का एलटीई एक्सेस तथा बेहतर कोर नैटवर्क होगा।

इससे डाटा के तीव्र आदान-प्रदान के साथ ही इन फोनों पर इंटरनेट ऑफ थिंग्स या आई.ओ.टी. की सुविधा भी मिल सकेगी। फिलहाल अभी तक 3जी और 4जी का दौरा चल रहा है और 5जी तकनीक पर बहुत तेजी से काम हो रहा है।

Close Menu