त्रिपुरा बेशक आपकी फेवरेट डेस्टिनेशन में अभी तक शामिल नहीं है, लेकिन अगर आप एक बार त्रिपुरा जाएंगे, तो यहां की खूबसूरती हमेशा आपके दिल में बस जाएगी. अगर आप वाइल्ड लाइफ के शौकीन हैं, तो आपको यहां और भी मजा आएगा. आइए, जानते हैं खास त्रिपुरा की वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के बारे में.

त्रिपुरा वन्य जीव अभ्यारण्य

त्रिपुरा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के लिए अपनी खास पहचान रखता है. ये सेंचुरी प्राकृतिक नजारों से भरपूर खूबसूरत जगह हैं, जहां पूर्वोत्तर की विविधता अपने शीर्ष पर नजर आती है. राज्य में बड़े और खूबसूरत वाइल्ड लाइफ सेंचुरी हैं जहां कई तरह के जंगली जानवर, जीव-जंतु और आपको चौंका देने वाले खूबसूरत प्राकृतिक दृश्य हैं.

गुमटी वन्य जीव अभ्यारण्य

गुमटी वाइल्ड लाइफ सेंचुरी त्रिपुरा के दक्षिण छोर पर स्थित है. इसकी गिनती देश के चुनिंदा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी होती है. यह वाइल्ड लाइफ सेंचुरी 389.59 वर्ग किमी. इलाके में फैला हुआ है. इसके 300 वर्ग किमी इलाके में पानी के खूबसूरत नजारे हैं. इस अभ्यारण्य की पहचान यहां पाए जाने वाले हाथियों के लिए है. इसके अलावा हिरण, सांभर, जंगली भैंसे व कई अन्य जंगली जानवर यहां के आकर्षण हैं.

रोवा वन्य जीव अभ्यारण्य

त्रिपुरा का एक और अभ्यारण्य इसके उत्तरी छोर पर है. इसे रोवा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के नाम से जाना जाता है. यह गुमटी वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के मुकाबले काफी छोटा है और महज 85.85 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला हुआ है. यहां कई तरह के जंगली जानवर तो हैं लेकिन यह इनसे ज्यादा अनेक तरह की पक्षियों और हरी-भरी वनस्पतियों के लिए मशहूर है. वनस्पति विज्ञान के छात्रों, पक्षीविज्ञानियों के लिए तो ये जगह और भी खास है. साथ ही वन्य जीव प्रेमियों को भी यह रोमांचित करता है. यहां  बागवानी भी खूब होती है.

सेपाहिजाला वाइल्ड लाइफ सेंचुरी

सेपाहिजाला वाइल्ड लाइफ सेंचुरी त्रिपुरा की राजधानी अगरतला से 35 किमी. की दूरी पर है. यह अभ्यारण्य 185.35 वर्ग किमी. के दायरे में फैला हुआ है. अपने यहां पाए जाने वाली पक्षियों और विशालकाय बंदरों के लिए देशभर में मशहूर है. यह जगह जैव विविधता और इको टूरिज्म के लिए खास तौर पर जाना जाता है.

कैसे पहुंचे 

त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में आप फ्लाइट से पहुंच सकते हैं. राज्य के तीन और शहरों एयरपोर्ट खोवाई, कमलपुर और कैलाशहर में एयरपोर्ट हैं. यहां चार्टर्ड प्लेन और छोटे विमान आसानी से उतर सकते हैं.

ट्रेन से जाने के लिए अगरतला का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन कुमारघाट है. यह अगरतला से 140 किलोमीटर दूर है. कुमारघाट से गुवाहाटी के लिए रेल चलती है.

घूमने का बेस्ट टाइम 

आप यहां नवम्बर से फरवरी में घूम सकते हैं.

क्या है खास 

त्रिपुरा प्रकृति की बहुत ही सुंदर रचना है. यह चारों ओर से पहाड़ियों, घाटियों  हरी-भरी वादियों और पहाड़ी नदियों से घिरा है. कमलासागर झील, दंबूर झील, उज्जयंत महल, नीरमहल, कुंजबन महल, गवर्नमेंट म्यूजियम, जंपुई हिल्स बेहद खूबसूरत है.

Close Menu