FY18 Q4 नतीजों में ओरिएंटल बैंक का घाटा 1,650 करोड़ पहुंचा

सार्वजनिक क्षेत्र के ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (ओबीसी) का शुद्ध घाटा मार्च में समाप्त वित्त वर्ष 2017-18 की चौथी तिमाही में 1,650.22 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। वित्त वर्ष 2016-17 की इसी तिमाही में यह आंकड़ा 1,218.01 करोड़ रुपये था।

शेयर बाजार को दी जानकारी में बैंक ने बताया कि समीक्षाधीन अवधि में उसकी कुल आय 4,689.12 करोड़ रुपये रही। एक साल पहले इसी अवधि में यह 5,093.84 करोड़ रुपये थी। बैंक का सकल फंसा कर्ज यानी ग्रॉस एनपीए उसके सकल ऋण के 17.63 फीसद पर पहुंच गया। एक साल पहले यह 13.73 फीसद था। वहीं शुद्ध एनपीए शुद्ध ऋण के 10.48 फीसद के बराबर रहा, जो एक साल पहले 8.96 फीसद रहा था। हालांकि बीती तिमाही में एनपीए के लिए बैंक का प्रावधान कम रहा। बैंक ने इस दौरान एनपीए के लिए 2,419.47 करोड़ रुपये का प्रावधान किया।एक साल पहले इस मद में 3,050.60 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया था। पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक का शुद्ध घाटा 5,871.74 करोड़ रुपये रहा। इस दौरान उसकी कुल आय 20,181.25 करोड़ रुपये रही। वित्त वर्ष 2016-17 में यह आंकड़े क्रमश: 1,094.07 करोड़ रुपये और 21,187.85 करोड़ रुपये थे।निजी क्षेत्र के बैंक फेडरल बैंक का मार्च 2018 की तिमाही में 43 फीसद मुनाफा घट गया है। इसका स्टैंडअलोन नेट प्रॉफिट 144.99 करोड़ रुपये रहा है। बीते वर्ष की समान अवधि में कंपनी का नेट प्रॉफिट 256.59 करोड़ रुपये के स्तर पर रहा था। इस दौरान कंपनी की कुल आय 2862.14 करोड़ रुपये रही है जो कि वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में 2598.06 करोड़ रुपये के स्तर पर रही थी।

Related Post

Close Menu