कर्नाटक चुनाव के नतीजों को देखते हुए जो सामने जनादेश सामने आया है वो काफी चौकाने वाला था ! देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह को जो सफलता मिली है उससे अब राजस्थान में प्रदेश की मूख्यमंत्री वसुंधरा राजे की राह तो कठिन हुई है क्योंकि सभी जानते है की राजस्थान में हुए उपचुनाव में हार भारतीय जनता पार्टी की नहीं बल्कि मुख्यमंत्री की हुई है ! 
 
वसुंधरा राजे की पावर को देखते हुए अभी तक भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष का नाम सामने नहीं आया है केंद्रीय नेतृत्व गजेंद्र सिंह शेखावत को प्रदेश अध्यक्ष के पद पर काबिज करना चाहता था लेकिन वसुंधरा राजे की जिद के चलते केंद्र का नेतृत्व भी नहीं टिक पाया ! कर्नाटक चुनाव को देखते प्रदेश अध्यक्ष के पद की घोषणा को रोक दिया गया था लेकिन आज कर्नाटक चुनाव के नतीजे सामने आ चुके है ! यह माना गया था की कर्नाटक में भाजपा को बहुमत नहीं मिलता है तो वसुंधरा राजे और मजबूत हो सकती है लेकिन भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलता है तो यह साफ़ हो जाता है की नरेंद्र मोदी और अमित शाह के निर्णय ही सफलता दिलवा सकते है ! 
 
राजे प्रदेश अध्यक्ष पद को लेकर अपना कुछ भी तर्क अगर पेश करती है लेकिन आकलन तो मोदी और शाह का कर्नाटक चुनाव के नतीजों को देखते हुए सही होता है ! ऐसे में वसुंधरा राजे को अपनी स्तिथि पर फिर से विचार करना चाहिए कही यह परिणाम इस और इशारा तो नहीं करते की राजस्थान उपचुनाव में हार वसुंधरा की हुई थी ! 
Close Menu