बिहार के मुजफ्फरपुर की एक अदालत ने "लवरात्रि" फिल्म के जरिए कथित तौर पर नवरात्रि त्योहार का मखौल उड़ाकर हिंदू भावना को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाते हुए बॉलीवुड स्टार सलमान सहित फिल्म से जुड़े अन्य लोगों के खिलाफ गत गुरुवार को दायर एक परिवाद पत्र पर बुधवार को सुनवाई की. अदालत ने पुलिस को इस मामले में अभिनेता सलमान खान और अन्य कलाकारों पर प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच का निर्देश दिया.

सलमान खान इस फिल्म के निर्माता हैं. वकील सुधीर कुमार ओझा द्वारा भादवि की धारा 295, 298, 153, 153 बी और 120 (बी) के तहत गत 6 सितंबर को दर्ज उक्त परिवाद पत्र की सुनवाई करते हुए न्यायिक दंडाधिकारी शैलेंद्र कुमार ने मिठनपुरा थाना में प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच का आज निर्देश दिया. शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि नवरात्रि त्योहार का मखौल उड़ाकर हिंदू भावना को ठेस पहुंचाने के लिए एक साजिश के तहत उक्त फिल्म जो कि "अश्लीलता को बढ़ावा देती है" का निर्माण किया गया तथा उसके प्रदर्शन का समय आगामी 5 अक्तूबर दुर्गा पूजा के समय किया जाने वाला है.

ओझा का दावा है कि उन्होंने फिल्म का प्रोमो देखा है जिसमें अश्लीलता की भरमार है. ओझा ने सलमान खान के अलावा उक्त फिल्म के अभिनेता आयुष शर्मा, अभिनेत्री वारिना हुसैन, निदेशक अभिराज मिनावाला और सहायक कलाकार राम कपूर एवं रोनीत राय को आरोपित किया है. बता दें कि इससे पहले भी फिल्म के नाम को लेकर काफी हंगामा मचा था. ‘लवरात्रि’ को लेकर वीएचपी ने कहा था कि फिल्म से हिंदुओं की धार्मिक भावनाएं आहत हो सकती हैं, इसलिए इसकी स्क्रीनिंग नहीं होने दी जायेगी.

Close Menu