पाक देता है आतंकियों को पनाह, उसी ने किया मुंबई हमला : नवाज

भ्रष्टाचार के आरोप में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त हो चुके नवाज शरीफ ने पहली बार माना है कि उनका देश आतंकियों को पनाह देता है। साथ ही कहा कि पाकिस्तान से गए आतंकियों ने ही 26/11 का मुंबई हमला किया था। 2008 में हुए इस हमले में 166 लोग मारे गए थे, जिनमें से कई विदेशी भी थे।

एक इंटरव्यू में नवाज ने कहा कि आतंकियों का साथ देने के कारण उनका देश दुनिया में अलग-थलग पड़ चुका है। नवाज ने कहा, ‘देश में आतंकी संगठन सक्रिय हैं। भले उन्हें नॉन स्टेट एक्टर कहें। क्या हमें उन्हें सीमा पार करके मुंबई में 150 लोगों की हत्या की इजाजत देनी चाहिए? हम सुनवाई पूरी क्यों नहीं कर पा रहे हैं? यह अस्वीकार्य है। राष्ट्रपति पुतिन और जिनपिंग भी यह कह चुके हैं।’ दरअसल, नवाज से पूछा गया था कि उनकी कुर्सी किस वजह से गई। सीधे जवाब के बजाय उन्होंने बात विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा की तरफ मोड़ दी। उन्होंने कहा कि हम खुद को अलग-थलग कर चुके हैं। बलिदानों के बाद भी कोई हमारी बात नहीं मानता। अफगानिस्तान की कहानी मान ली गई, लेकिन हमारी नहीं।

पाकिस्तानी सेना और कोर्ट पर भी निशाना; कहा- 2-3 समानांतर सरकारें नहीं चल सकती

नवाज ने सेना और न्यायपालिका के साथ तनाव का जिक्र करते हुए कहा, “जब दो या तीन समानांतर सरकारें चल रही हों, तब आप देश नहीं चला सकते। इसे रोकना होगा। सरकार सिर्फ एक ही हो सकती है। वह संवैधानिक प्रक्रिया से चुनी जाती है।’

पाक में 10 साल में किसी आतंकी को सजा नहीं

लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुंबई हमला किया था। यह सभी पाकिस्तान से आए थे। हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद और मौलाना मसूद अजहर के आतंकी संगठन पाकिस्तान के बेधड़क चल रहे हैं। हमले के 10 साल बाद भी पाकिस्तान में किसी को सजा नहीं हुई है। रावलपिंडी की एंटी टेररिस्ट कोर्ट में ट्रायल पेंडिंग है। कई पाकिस्तानी अधिकारी और आम लाेग सात आरोपियों के खिलाफ गवाही दे चुके हैं। लेकिन भारतीय गवाहों को बुलाने की जिद के चलते ट्रायल रुका हुआ है।

26 नवंबर 2008 की रात पाक से आए 10 आतंकियों ने मुंबई के ताज होटल सहित दो होटलों, सीएसटी रेलवे स्टेशन व एक यहूदी केंद्र को निशाना बनाया।4 दिन तक होटल को कब्जे में रखा था। 166 लोग मारे गए थे, 300 घायल हो गए थे।9 आतंकी मारे गए और अजमल कसाब जिंदा पकड़ा गया।

Related Post

Close Menu