भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में पांच संदिग्धों की गिरफ्तारी के बाद नक्सलियों की ओर से PM मोदी की हत्या की साजिश रचे जाने का सनसनीखेज खुलासा हुआ. नक्सलियों के संपर्क में रहने के आरोप में दिल्ली से गिरफ्तार किए गए रोना जैकब विल्सन के पास से मिली चिट्ठी से साजिश का खुलासा हुआ. हालांकि यह पहली बार नहीं है कि किसी ने पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी दी हो. 2014 में मोदी के पीएम बनते ही उनकी सुरक्षा व्‍यवस्‍था को काफी मजबूत कर दिया गया था.

सूत्रों के अनुसार पीएम बनने से पहले ही नरेंद्र मोदी आतंकियों के निशाने पर हैं. ऐसे में पीएम बनने के बाद नरेंद्र मोदी की सुरक्षा घेरा को लगभग अचूक बना दिया गया है. पीएम मोदी जहां भी जाते हैं, वहां जमीन से लेकर आसमान तक चप्पे-चप्पे पर नजर रखी जाती है.

सूत्रों के अनुसार मोदी की सुरक्षा व्‍यवस्‍था मनमोहन सिंह की तुलना में दोगुनी है. एसपीजी जवानों के हाथ में उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी है. मोदी की सुरक्षा में सामने और अज्ञात रूप से कम से कम एक हजार से ज्यादा कमांडो तैनात रहते हैं.

अमेरिका की तरह भारत के पीएम के लिए भी खास गाड़‍ियों का इस्‍तेमाल होता है. पीएम मोदी एडवांस सुरक्षा वाली बुलेटप्रुफ बीएमडब्ल्यू 7 में सफर करते हैं. हमलावरों को संदेह में रखने के लिए उनके काफिले में दो डमी कारें भी चलती हैं. मोदी ज्‍यादातर समय गाड़ी के आगे के हिस्‍से में बैठते हैं.

सफर शुरू होने से पहले मोदी के काफिले में चलने वाली कारों की एसपीजी अच्छी तरह जांच करती है. उनके काफिले में एक गाड़ी में जैमर मौजूद होता है, जिसमें दो एंटिना फिट रहते हैं. ये सड़क के दोनों तरफ 100 मीटर की दूरी तक रखे विस्फोटक को निष्क्रिय कर सकते हैं. साथ ही किसी भी संदिग्‍ध सिग्‍नल को पीएम के काफ‍िले तक पहुंचने से रोकते हैं.

साथ ही कई जवान स्‍नाइपर के रूप के पीएम मोदी के आसपास तैनात रहते हैं. रैल‍ियों में या कार्यक्रम के दौरान पीएम के आगे-पीछे सादे कपड़ों में एनएसजी के कमांडो चलते हैं. साथ ही कई कमांडों खुफ‍िया वेष में आस-पास तैनात रहते हैं. एसपीजी के कमांडो के खास तरह की राइफल रहती है, जिससे एक मिनट में 800 फायर हो सकता है.

पीएम के आसपास के लोगों पर नजर रखने के लिए एसपीजी जवान खास ब्‍लैक कलर का चश्‍मा पहनकर चलते हैं. प्रधानमंत्री के सात रेसकोर्स रोड स्थित आवास पर भी एसपीजी के 500 से ज्यादा कमांडो तैनात रहते हैं

यही नहीं सूत्रों के अनुसार पीएम की सुरक्षा में एक खास तरह के ब्रीफकेस का भी इस्‍तेमाल होता है. यह ब्रीफकेस समय आने पर सुरक्षा कवच भी बन सकता है. इसमें कई तरह के हथ‍ियार भी रहते हैं.

वहीं पीएम अगर विदेश जाते हैं तो उनकी हवाई यात्रा की जिम्मेदारी एयरफोर्स की होती है. पीएम के एयरपोर्ट पहुंचने से पहले दो विमान तैयार रहते हैं. अगर एक विमान खराब हो जाए तो दूसरे विमान का इस्तेमाल किया जाता है. पीएम के विदेश दौरों के लिए खासतौर पर तैयार एयरइंडिया के विमान का इस्‍तेमाल होता है. इस विमान में सुरक्षा के एडवांस टेक्‍नॉलजी मौजूद रहती है, जिसपर मिसाइल से भी हमला करना लगभग नामुमकिन है. पीएम के विमान के उड़ान भरने से पहले पूरे इलाके को नो फ्लाइंग जोन में बदल दिया जाता है.

मोदी की सुरक्षा पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बयान दिया है कि सरकार उनकी सुरक्षा को लेकर पूरी तरह फोकस है. नक्‍सल‍ी अब हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं और 10 जिलों तक सि‍मट कर रह‍ गए हैं.

आपको बता दें कि इसके पहले भी मोदी पर हमले को लेकर धमकियों के कई मामले सामने आए थे. आतंकी संगठन आईएसआईएस ने गोवा में एक गुमनाम पत्र भेजकर प्रधानमंत्री मोदी और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को कथित तौर पर जान से मारने की धमकी दी थी. उत्तर प्रदेश पुलिस ने रामवीर नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया था, जिसने मथुरा में होने वाली एक रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जान से मारने की धमकी दी थी.

Close Menu