नीरव मोदी के दो सहयोगी विजयनगर से गिरफ्तार 4 बैंकों से 735 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला कोर्ट के आदेशों के बाद सीबीआई की टीम दोनों को लेकर मुंबई हुई रवाना फर्जी कंपनियों खोलकर एक ही तरह के दस्तावेजों से बैंकों से अरबों रुपए का ऋण लेकर देश छोड़कर भागने वाले कारोबारी नीरव मोदी के 2 साथी अनिल कुमार तोषनीवाल एवं अनिल कुमार जैन को सीबीआई ने सोमवार को विजय नगर से गिरफ्तार किया !

दोनों पर मोदी द्वारा विभिन्न बैंकों से 735 करोड़ 58 58 लाख 73,000  95 कि  ऋण धोखा धड़ी के षड्यंत्र में शामिल होने का आरोप है इस प्रकरण की जांच मैं मोदी की फर्जी कंपनियों के विभिन्न डायरेक्टरों का पता लगाने में उन्हें गिरफ्तार करने के लिए सीबीएसई की 20 से अधिक टीम में पूरे देश में एक साथ काम कर रही है इन 20 में से 10 टीमों ने करीब 15 दिन से अजमेर सहित प्रदेश के विभिन्न जिलों में डेरा जमा रखा था बताया जा रहा है कि इस प्रकरण में राजस्थान से 4 लोग जुड़े हुए हैं सीबीआई को दो आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता मिल गई है  !

जबकि अन्य की तलाश अभी जारी है सीबीआई ने सहायक अभियोजन अधिकारी वीरेंद्र सिंह के जरिए आरोपी तोशनीवाल विजयन को सोमवार दोपहर न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया दोनों के खिलाफ दर्ज मुकदमे की FIR पेश करते हुए सीबीआई के दल ने बताया कि दोनों से इस प्रकरण में पूछताछ करनी है क्योंकि यह मुकदमा मुंबई की सीबीआई अदालत में विचाराधीन है इसलिए उन्हें पुलिस रिमांड पर लेने का आदेश उसी अदालत से प्राप्त होगा दोनों आरोपियों को अजमेर से मुंबई ट्रेन से लेकर जाना है !

जिसमें करीब 36 घंटे लगेंगे उन्होंने अदालत से ट्रांजिट रिमांड का आदेश देने का आग्रह किया मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने इस संबंध में सीबीआई की पत्रावली का अवलोकन करने के बाद दोनों आरोपियों को 12 जुलाई तक ट्रांजिट रिमांड देते हुए आदेश दिया कि सीबीआई दोनों आरोपियों को 12 जुलाई को मुंबई की सीबीआई अदालत में पेश करेगी दोनों आरोपियों के साथ उनके कुछ दोस्त व रिश्तेदार भी अदालत में उपस्थित थे अदालत के आदेश की प्रति मिलते ही सीबीआई की टीम दोनों को लेकर मुंबई रवाना होगी

Related Post

Close Menu