सदी के सबसे प्रलयकारी बाढ़ झेल रहे केरल के लिए अब एक राहत भरी खबर आई है. भारतीय मौसम विभाग ने शनिवार को जानकारी दी है कि केरल में अगले दो से तीन दिनों में वर्षा में कमी आएगी. केरल भारी वर्षा के चलते बाढ़ से प्रभावित है. मौसम विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक मृत्युंजय मोहपात्रा ने कहा कि केरल में 20 अगस्त से भारी वर्षा होने की उम्मीद नहीं है. उन्होंने कहा कि इस दक्षिणी राज्य में एक अगस्त से 17 अगस्त तक सामान्य से 170 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गई.

उन्होंने कहा, ‘‘हाल ही में केरल के लगभग सभी जिलों में भारी वर्षा हुई. शुक्रवार को तीन..चार जिलों में भारी वर्षा हुई. शनिवार को हम छिटपुट स्थानों पर भारी वर्षा की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन बहुत भारी वर्षा नहीं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम रविवार को एक दो जिलों में भारी वर्षा की उम्मीद कर रहे हैं और राज्य के बाकी स्थानों पर मध्यम दर्जे की वर्षा होगी. 20 अगस्त से हम भारी वर्षा की उम्मीद नहीं कर रहे हैं. धीरे धीरे वर्षा में कमी आएगी.’’

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम राजीवन ने कहा कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है लेकिन इसका केरल पर कोई प्रभाव नहीं होगा. वहीं केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बताया कि शनिवार को राज्य में 33 लोगों की मौत हो गई. बारिश और बाढ़ से प्रभावित केरल में मृतकों की संख्या 357 हो गई. मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ के कारण राज्य को 19, 512 करोड़ का नुकसान हुआ है.

इस बीच भारी बारिश के अनुमान के कारण अधिकारियों की चिंता बढ़ गई है. राज्य के 11 जिलों में रेड अलर्ट जारी है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग द्वारा शनिवार दोपहर जारी अनुमान के मुताबिक, राज्य के अलग-अलग हिस्सों में मूसलाधार बारिश होने की संभावना है. तिरुवनंतपुरम, कोल्लम और कासरगोड को छोड़कर केरल के 11 जिले रेड अलर्ट पर हैं और यहां अधिक बारिश की संभावना है. केरल 100 वर्षों में भीषण बाढ़ का सामना कर रहा है.

पीएम नरेंद्र मोदी ने शनिवार को केरल के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करके तत्‍काल आर्थिक सहायता के रूप में केरल को 500 करोड़ रुपये का पैकेज देने का ऐलान किया है. इससे पहले भी पीएम की ओर से 100 करोड़ रुपये आर्थिक सहायता की घोषणा की गई थी. पीएम मोदी ने केरल की बाढ़ और बारिश में मारे गए लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये और गंभीर घायलों को 50-50 हजार रुपये के मुआवजे की घोषणा की है. यह मुआवजा प्रधानमंत्री राष्‍ट्रीय आपदा राहत कोष से दिया जाएगा.

 

Related Post

Close Menu