नई दिल्ली. सूर्यग्रहण 2018 का नजारा आषाढ़ माह की अमावस्या यानी 13 जुलाई शुक्रवार को दुनियाभर के कई स्थानों पर देखने को मिलेगा. इस ग्रहण का समय सुबह 7:18 मिनट से शुरू होकर 9:43 मिनट तक रहेगा. भारत में इस सूर्यग्रहण का नजारा दिखाई नहीं देगा. ये ऑस्ट्रेलिया, मेलबॉर्न, अंटार्कटिका, ऑस्ट्रिया के उत्तरी भाग में नजर आएगा. इसके बाद अगला सूर्यग्रहण इसी साल 11 अगस्‍त को देखने को मिलेगा लेकिन उसको भी भारत में नहीं देखा जा सकेगा. उसे चीन, तिब्बत, नार्वे और मंगोलिया में दिखा जा सकेगा.

15 फरवरी को लगा था साल का पहला सूर्यग्रहण
साल 2018 का पहला सूर्यग्रहण 15 फरवरी को लगा था. इस खगोलीय घटना को दक्षिणी गोलार्द्ध के हिस्‍सों में देखा गया था. इसके तहत अंटार्कटिका, अटलांटिक महासागर के दक्षिणी हिस्‍सों और साउथ अमेरिका के दक्षिणी हिस्‍से में भी नजर आया. यह आंशिक सूर्यग्रहण था जो भारत में नहीं दिखाई दिया.

सूर्यग्रहण के प्रकार
पूर्ण सूर्यग्रहण- जब पूरी तरह अंधेरा छा जाए तो इसका मतलब है कि चंद्रमा ने सूर्य को पूरी तरह से ढंक लिया है. इस अवस्था को पूर्ण सूर्यग्रहण कहा जाएगा.

आंशिक सूर्यग्रहण- जब चंद्रमा सूरत को पूरी तरह से न ढंक पाए तो ऐसी अवस्था को आंशिक या खंड ग्रहण कहते हैं. आंशिक चंद्रग्रहण हर छह महीने में पड़ता है.

वलयाकार सूर्य ग्रहण- चंद्रमा यदि सूर्य को कुछ इस तरह से ढंक ले कि सूर्य के चारों ओर रोशनी का छल्ला बना हुआ दिखाई दे तो इस अवस्था को वलयाकार सूर्यग्रहण कहते हैं. यह एक दुर्लभ खगोलीय घटना है.

Related Post

Close Menu