जैसलमेर -भारतीय सेना की दक्षिण कमान एक महत्वपूर्ण प्रदर्शन में, 16 से 22 दिसंबर 2017 तक राजस्थान के रेगिस्तान में HAMESHA VIJAYEE नामक एक युद्ध अभ्यास में हिस्सा ले रही है  . इस युद्धाभ्यास का उद्देश्य एकीकृत रूप से  दुश्मन के इलाकों  की गहराई में जाकर सशस्त्र बलों की क्षमता का मूल्यांकन करना है।
यूनिट एवं फार्मेशन अपने रण कौशल और रणनीति को उच्च कोटि का बनाने के लिए पिछले दो महीनों से प्रशिक्षण के दौर से गुजर रहें है। प्रारंभिक प्रशिक्षण के बाद, एकीकृत रूप से टैंक बख्तरबंद गाड़ियां एवं वायुसेना के साथ पूरा तालमेल बिठाते हुए सैनिक इस युद्धाभ्यास को आगे बढ़ा रहे हैं
 इस युद्धाभ्यास में सर्वेलन्स नेटवर्क की मदद से सटीक हमले और संयुक्त संचालन पर आधारित रणनीतिक और सामरिक उपकरणों का भी परीक्षण किया जाएगा। पारंपरिक युद्ध के अलावा, सैनिकों को रासायनिक और परमाणु आकस्मिकताओं के लिए भी अभ्यास कराया जाएगा।
 सेना और वायु सेना के बीच एक उच्च स्तर के तालमेल का भी प्रदर्शन किया जाएगा । युद्य अभ्यास की समीक्षा दोनों सेवाओं के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा की जाएगी।
दक्षिणी कमान ने नियमित अंतराल पर इस तरह के अभ्यास किए हैं ताकि आधुनिक हथियारों के साथ ही उच्च परिचालन योजनाओं की वैधता सुनिश्चित की जा सके।
Close Menu