अजमेर । ब्यावर रोड स्थित तबीजी दुखांतिका में घायल आंनदसिंह की सेना की नौकरी दांव पर लग चुकी है। हादसे के दौरान उसकी दाई आंख की रोषनी धुंधली हो चुकी है। घायल युवक के पिता किसान है और पांच भाईयो के बीच वह सबसे छोटा है। सबसे छोटे आंदनसिंह को अब फौज की नौकरी मिलना मुष्किल नजर आ रही है।
हालांकि चिकित्सको ने आंखो की जांच और उपचार का भरोसा दिलाया है। तबीजी के निकट गत रविवार रोडवेज बस व डंपर की टक्कर में घायल हुये राजसमंद जिले के बादनी गांव निवासी आंनदसिंह पुत्र चुन्नी सिंह का मंगलवार को मेडिकल करवाया गया, आंनदसिंह ने बताया कि उसको दाहिनी आंख से नजर नही आ रहा है, टार्च का प्रकाश  डालने पर धुधली रोशनी नजर आती है।
मेडिकल ज्युरिस्टि ने भी दाहिनी आंख के उपर लगी चोट का असर बताते हुये नेत्ररोग विशेषज्ञ पर्रामश  के लिये भेजा है। नेत्ररोग विशेषज्ञ  ने भी आंनद सिंह को जयपुर में जांच व समय रहते उपचार करवाने की सलाह दी है।

Related Post

Close Menu