अजमेर ।भारत स्वाभिमान ट्रस्ट के जिला संयोजक नेमीचंद तंबोली ने कहा है कि जीवन में मानसिक संवेगात्मक तथा व्यवहारिक रूप से किसी प्रकार की विकृति नहीं होनी चाहिए । इन तीनों में सामंजस्य स्थापित कर लेने से जीवन में समरसता व सामंजस्य का भाव उत्पन्न होता है । रविवार को पुष्कर रोड स्थित हनुमान ईश्वर मंदिर परिसर में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए तंबोली ने कहा कि अपने व्यवहार में सकारात्मक  सुधार लाने तथा मानसिक विकृतियों को दूर करने के लिए  पूर्व लक्षणों का त्याग करना, जीवन में प्रसननता का भाव विकसित करना,कार्य  की क्षमता बढ़ाना, सामाजिक समायोजन करना तथा आत्म सम्मान एवं आत्म स्वीकृति का भाव विकसित करना भी जरूरी होता है। व्यक्ति के संवेदनात्मक व्यवहार का  नियंत्रित होना बहुत जरूरी है।  इससे जीवन में सहजता एवं प्रसन्नता का भाव विकसित होता है । बैठक में 21 जून को आयोजित योग दिवस पर जिला स्तरीय आयोजन को लेकर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई।  जिला स्तरीय कार्यक्रम में प्रोटोकॉल के तहत योगाभ्यास करवाना तथा विभिन्न संस्थाओं में योग दिवस से पूर्व योगाभ्यास करवाने का निर्णय लिया गया।  इसके अलावा बैठक में स्वदेशी समृद्धि कार्ड ,पतंजलि बीएसएनएल सिम सहित अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के राज्य स्तरीय समारोह मैं कोटा में अजमेर से कार्यकर्ताओं के शामिल होने पर भी निर्णय लिया गया । शहर में संचालित सभी योग कक्षाओं में नियमित रूप से योग पखवाड़े के तहत आमजन को विशेष प्रशिक्षण प्रदान करने पर भी चर्चा की गई। शहर की लगभग 20 योग कक्षाओं में 3 जून से 18 जून तक योग पखवाड़े का आयोजन भी किया जा रहा है। बैठक में युवा भारत के प्रभारी पीएल चोयल, महिला पतंजलि योग समिति की जिला प्रभारी परमजीत कौर, कोषाध्यक्ष विवेक चंडक, नगर प्रमुख सुशांत ओझा, वरिष्ठ योग शिक्षक अर्जुन सिंह, प्रभु नुवाद, दौलतराम थदानी, जसवंत सिंह, कमलेश ओझा, मोहनदास टीलवानी, सुंदर लखवानी, प्रमोद गौड़, मुकेश गौड़, प्रिया शर्मा, रश्मि केवलरमानी, सुनीता सोनी, चित्रा देवानी ,रेणुका कश्यप भुवनेश जोशी, एस के अरोड़ा,सहित सेकड़ो कार्यकर्ता व पदाधिकारी उपस्थित रहे। बैठक के समापन पर  परमजीत कौर ने  धन्यवाद ज्ञापित किया।
Close Menu